Friday, September 7, 2007

जिन के पास लिखने को कुछ ना हो

3 टिप्पणियाँ





कहने को कुछ हो नही, अगर तुम्हारे पास।


दूजों के ब्लोग का लिकं ,अपने ब्लोग पे दीजै जनाब॥




या फिर करें अलोचना ,या तारीफों का पुल बाँधें।


हिट बटोर ले जाईएं , चढ़ दूजो के काँधें॥


3 टिप्पणियाँ:

परमानन्द says:
September 7, 2007 at 5:04:00 PM GMT+5:30

सौ परसेन्ट सटासट लिखा है, पर चिकने घड़े पर कोई फर्क न पड़ेगा।

parul k says:
September 7, 2007 at 6:39:00 PM GMT+5:30

wah ji wah.....bahut khuub....not a bad idea

Rachna says:
September 7, 2007 at 6:44:00 PM GMT+5:30

woh kuch toh saarthak kar rahen haen , sohaard toh phela rahe haen
aaj kae is mahol mae aap sohaard phelane kae liyae kya kar rahen hae ? kabhie uska bhi didhora bajayae , hum bhi taali bajane kaa maok dae

Post a Comment