Thursday, July 26, 2007

एक जरूरी संदेश

4 टिप्पणियाँ

बहुत जतन से लिख रहे चिट्ठा यारों हम।

हिट देख बुरा हाल है, जीरो से भी कम।

जीरो से भी कम, हमे पढ़्ता नही कोई,

हँसते-हँसते यारो, अपनी आँखे रोई।

4 टिप्पणियाँ:

Udan Tashtari says:
July 26, 2007 at 3:07:00 AM GMT+5:30

अरे, महारज. लिखते रहें, हम पढ़ रहे हैं न!!

काकेश says:
July 26, 2007 at 6:26:00 AM GMT+5:30

हम भी पढते रहे हैं जी आपको..पर अन चिन्ह भी छोड़ जायेंगे...आप लिखते रहे...अच्छा लिखते है जी.

Gyandutt Pandey says:
July 26, 2007 at 1:48:00 PM GMT+5:30

ठीक है जी. मुनादी हो गयी. अब उसी के माफिक लिखते रहें. :)

Shastri J C Philip says:
July 31, 2007 at 6:13:00 PM GMT+5:30

गजब का हास्य ठूसा है 4 पंक्तियों मे. लिखते रहें -- शास्त्री जे सी फिलिप

हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है
http://www.Sarathi.info

Post a Comment